नवरात्रि के पहले दिन माँ शैल पुत्री की पूजा की जाती है| मर्केंडय पुराण के अनुसार पर्वतराज यानि शैलराज हिमालय की पुत्री होने की वजह से इनका नाम शैलपुत्री पड़ा| साथ ही माँ का वहां बैल होने की वजह से इन्हें वृषारुढ़ा भी कहा जाता है| माँ शैलपुत्री के दो हाथों में से दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल सुशोभित है| जानिए माँ शैलपुत्री की पूजा विधि और मंत्र|

पूजन विधि: नवरात्रि के पहले दिन देवी के शरीर पर लेपन के तौर पर लगाने के लिए चन्दन और केश धोने के लिए त्रिफला चढ़ाना चाहिए| त्रिफला बनाने के लिए आंवला, हरड और बहेड़ा पीस कर पाउडर बना लें| इससे देवी माँ प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों पर कृपा बनाये रखती हैं|

 पूजा के दौरान माँ शैलपुत्री के मंत्र का जाप करना चाहिए|

   “ ॐ ऐं हीं क्लीं शैलपुत्रै नमः”

इस मंत्र का जाप करने से उपासक को धन-धान्य की , ऐश्वर्य, सौभाग्य, आरोग्य, मोक्ष तथा हर प्रकार के सुख साधनों की प्राप्ति होती है| कहा जाता है कि आज के दिन माता शैलपुत्री की पूजा करने और मंत्र जाप करने से व्यक्ति का मूलधार चक्र जाग्रत होता है| यह मंत्र आज के दिन कम से कम ११ बार जपना चाहिए|

इस दिशा में मुंह करके करें देवी की उपासना:-

   देवी माँ की उपासना करते समय अपना मुख घर की पूर्व या उत्तर दिशा की ओर रखना चाहिए|

                                                     शैलपुत्रि माँ बैल स्वर, करें देवता जय जयकार||

                                                     शिवशंकर की प्रिय भवानी, तेरी महिमा सबने जानी||

                                                     पार्वती तू उमा कहलावे, जो सुमिरे सो सब सुख||

                                                     ऋद्धि-सिद्धि परवान करे तू, दया करे धनवान करे तू||

                                                     सोमवार को शिवशंकर प्यारी, आरती तेरी जिसने उतारी||

                                                     उसकी सिगरी  पूजा दो, सिगारे दुःख तकलीफ मिटा दो||

                                                     घी का सुन्दर दीप जला के, गोला गरी का भोग लगा के||

                                                     श्रद्धा भाव से मंत्र गएँ, प्रेम सहित फिर शीश झुकाएं||

                                                     जय गिरिराज किशोरी अम्बे, शिवमुख चन्द्र चकोरी अम्बे||

                                                     मनोकामना पूर्ण कर दो, भक्त सदा सुख संपत्ति भर दो||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *